बीकानेर

पुलिस उपनिरीक्षक भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पुलिस ने किया भंडाफोड़ा, प्रधानाचार्य समेत 10 जनों को पकड़ा

पुलिस ने एक निजी स्कूल के प्रधानाचार्य एवं कोचिंग सेंटर के संचालक समेत दस जनों को पकड़ा है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस उपनिरीक्षक भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पुलिस ने किया भंडाफोड़ा, प्रधानाचार्य समेत 10 जनों को पकड़ा

बीकानेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से सोमवार को आयोजित पुलिस उपनिरीक्षक भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ा किया है। पुलिस ने एक निजी स्कूल के प्रधानाचार्य एवं कोचिंग सेंटर के संचालक समेत दस जनों को पकड़ा है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़े, NEET 2021: फर्जी परीक्षार्थी बन पहुंचा परीक्षा केंद्र, पुलिस ने दबोचा

इधर, आयोग नकल का प्रयास करने वाले अभ्यर्थी को डिबार करेगा और जिस परीक्षा केंद्र पर यह घटना हुई है, उसके खिलाफ भी कार्रवाई लिए जिला कलेक्टर को लिखेगा। एसआई भर्ती परीक्षा की पहली पारी में हिंदी का पेपर शुरू हुए करीब 15 मिनट ही हुए होंगे कि आयोग तक पाली में एसओजी व पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई की रिपोर्ट पहुंच गई।

एसओजी ने बीकानेर पुलिस अधीक्षक प्रीतिचन्द्रा को एसआइ भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह के बीकानेर में सक्रिय होने की सूचना दी।

आयोग प्रशासन भी कुछ देर के लिए सकते में आ गया कि इतनी कड़ी सुरक्षा के बाद भी नकल कराने वालों के हौसले पस्त नहीं हुए। आयोग को सूचना मिली कि पाली के एक परीक्षा केंद्र पर प्रिंसिपल ने ही परीक्षा प्रश्न पत्र को मोबाइल में लेकर उसे नकल कराने वाले गिरोह के पास भेज दिया। नकल कराने वाले गिरोह के लोग बीकानेर में बैठे थे। लेकिन एसओजी और पुलिस ने उन्हें दबोच लिया।

एसपी चन्द्रा ने बताया कि आरोपियों ने पेपर शुरू होने से पहले ही पेपर को लीक किया है। यह पेपर किन-किन अभ्यर्थियों के पास पहुंचा है, इसकी जांच-पड़ताल कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक राजू मैट्रिक परीक्षा शुरू होने से ठीक पांच मिनट पहले निजी स्कूल के बाहर पहुंचा। उसके मोबाइल को स्कूल के अंदर ले जाकर पेपर की फोटो खींचकर वापस दे दिया गया। राजू मैट्रिक ने पेपर को आगे गिरोह के अन्य सदस्यों को भेज दिया। पुलिस अब पड़ताल कर रही है कि लीक पेपर से कितने अभ्यर्थियों को नकल कराई गई।

पाली में जिस अभ्यर्थी ने अनुचित साधनों का प्रयोग करने की कोशिश की है, उसकी रिपोर्ट मंगाई जा रही है। उसे आगे की परीक्षाओं से डिबार किया जाएगा। परीक्षा केंद्र के खिलाफ भी कार्रवाई के लिए कलेक्टर को लिखा जाएगा। केंद्र के खिलाफ सीधी कार्यवाही आयोग नहीं कर सकता है। दो दिन की परीक्षा में और सतर्कता बढ़ाने के लिए गृह विभाग और परीक्षा केंद्र प्रभारियों को लिखा गया है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer