धोलपुर

डकैत मुकेश ठाकुर को यूपी पुलिस ने किया मुठभेड़ में ढेर, 1 लाख 15 हजार का था इनामी कुख्यात

डकैत मुकेश ठाकुर मूलरूप से बसेड़ी, राजस्थान का निवासी था. इरादतनगर में पेट्रोल पंप के साथ उसने जगनेर में एक पेट्रोल पंप भी लूटा था,पेट्रोल पंप पर मौजूद गार्ड से राइफल लूटी थी.

डकैत मुकेश ठाकुर को यूपी पुलिस ने किया मुठभेड़ में ढेर, 1 लाख 15 हजार का था इनामी कुख्यात

धौलपुर. इरादतनगर स्थित केनरा बैंक डकैती में फरार चल रहा 50 हजार रुपये का इनामी मुकेश ठाकुर सोमवार सुबह पुलिस मुठभेड़ में मारा गया. पुलिस द्वारा चेकिंग अभियान में रोकने पर मुकेश ठाकुर ने फायरिंग की. जवाबी फायरिंग में मुकेश ठाकुर घायल हो गया. अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

यह भी पढ़े, गैंगस्टर गिरफ्तार: उदयपुर कोटा का कुख्यात बदमाश हुआ गिरफ्तार, जिसे 13 साल पहले गोलियों से भूनकर कर दी थी हत्या

सदर क्षेत्र में बीएसएनएल ग्राउंड के पास पुलिस और उसके बीच मुठभेड़ हुई. मुकेश ठाकुर मूलरूप से बसेड़ी, राजस्थान का निवासी था. इरादतनगर में पेट्रोल पंप के साथ उसने जगनेर में एक पेट्रोल पंप भी लूटा था. पेट्रोल पंप पर मौजूद गार्ड से राइफल लूटी थी.छत्ता क्षेत्र में उसके गैंग ने एक व्यापारी के कर्मचारी को गोली मारी थी. पुलिस को उसकी तलाश थी. मुकेश लंबे समय से पुलिस को चकमा दे रहा था.

उत्तर प्रदेश की आगरा पुलिस से मिली जानकारी अनुसार आगरा पुलिस को सूचना मिली कि धौलपुर के बसेड़ी क्षेत्र के रहने वाले मुकेश ठाकुर के आगरा में पहुंचा है और किसी वारदात को अंजाम देने वाला है। इस पर पुलिस टीम को सर्तक किया गया।

पुलिस ने मुखबिर के जरिए मुकेश की पहचान सुनिश्चित कर ली और पकडऩे के लिए जाल बिछा लिया। इस पुलिस ने बाइक सवार मुकेश को रोकते हुए पूछताछ की, जिसमें बाइक पर फर्जी नंबर प्लेट होना पाया गया। जिसके बाद पुलिस मुकेश व उसके साथी को पकड़ कर सदर बाजार थाने पर ले आई। यहां पूछताछ में मुकेश ने स्थानीय एक व्यक्ति के यहां उसकी दो राइफलें छुपी होना बताया। इस पर पुलिस टीम मुकेश को लेकर राइफलें बरामद करने के लिए रवाना हो गई।

रास्ते में मुकेश पुलिस गाड़ी में सवार दो पुलिस कांस्टेबलों से धक्का देकर सरकारी पिस्टल लेकर भागने लगा। पुलिस टीम ने भी पीछा करना शुरू कर दिया। दोनों ओर से फायरिंग हुई। इसके बाद जब मुकेश ने फायरिंग करना बंद कर दिया। यहां जाकर देखा तो वह गंभीर घायलावस्था में पड़ा मिला, जिसें इलाज के लिए अस्पताल लाया गया, यहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। आगरा पुलिस ने मुकेश की ओर से बताए गए राइफल रखने की स्थान को चिन्हित करने के प्रयास तेज कर दिए है।

पैरोल से चल रहा था फरार:

धौलपुर के बसेड़ी थाने के गांव जारगा निवासी मुकेश ठाकुर पर राजस्थान के अलावा उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश के विभिन्न थानों पर ३८ मुकदमें दर्ज हैं। इन मामलों में एक हत्या के मामले में मुकेश ठाकुर आजीवन कारावास की सजा काट रहा था।

जेल से वह गत 19 सितम्बर 2019 से 19 अक्टूबर 2019 को पैरोल पर आया था। तब से अब तक वह फरार चल रहा है। पुलिस ने मुकेश की तलाश भी लेकिन कोई भी जानकारी नहीं हो सकी। फरारी के दौरान मुकेश ने अपनी गिरोह बना ली। गिरोह उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में सक्रिय होकर लगातार अपराधिक वारदातों को अंजाम दे रहा था।

वर्ष 2002 में रखा था अपराध की दुनियां में कदम:

डकैत मुकेश ठाकुर ने वर्ष 2002 में बसेड़ी थाना क्षेत्र में दलितों के साथ मारपीट कर अपराधिक गतिविधियों में सक्रिय हुआ था। इसी क्रम में आठ वर्ष में मुकेश पर 28 आपराधिक मामले दर्ज हो गए। वर्ष २००९ में मुकेश ठाकुर को भरतपुर जेल ले जाते समय कैंथरी बॉर्डर पर अपने सहयोगियों के साथ पुलिस पर हमला कर दो राइफल छीनकर फरार हो गया था।

इसी क्रम में वर्ष 2010 में डकैत मुकेश ठाकुर ने जेल में बंद कुख्यात डकैत जगन गुर्जर के भांजे भूरा की हत्या कर दी। जिसका बदला लेते हुए उसी दिन जगन गुर्जर के भाई पप्पू गुर्जर ने मुकेश ठाकुर के सक्रिय सदस्य पप्पू खनपुरा के साले संतोष को बसई डांग थाना क्षेत्र में मौत के घाट उतार दिया। इस मामले में बाड़ी कोर्ट ने आरोपी मुकेश ठाकुर को दोषी मानते हुए वर्ष 2017 को आजीवन करावास की सजा सुनाई थी।

गांव में छाया शौक:

डकैत मुकेश ठाकुर की मुठभेड़ में मौत की सूचना पर बसेड़ी क्षेत्र के गांव जारगा में सोमवार को मातम छा गया। हर कोई घटना को लेकर गांव में चर्चाएं करता हुआ नजर आया। इतना ही नहीं जिलेभर में मुकेश की मौत की सूचना पर चर्चाएं होती रही।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer