जयपुर

योगेश जाटव की हत्या को लेकर बड़ौदामेव में आया सियासी उफान

योगेश जाटव की पीट पीटकर हत्या को लेकर बड़ौदामेव में सियासी उफान आ गया है। भाजपा सरकार ने एक बार फिर खराब कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरा है।

योगेश जाटव की हत्या को लेकर बड़ौदामेव में आया सियासी उफान

जयपुर. योगेश जाटव की पीट पीटकर हत्या को लेकर बड़ौदामेव में सियासी उफान आ गया है। भाजपा सरकार ने एक बार फिर खराब कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरा है।

कांग्रेस आलाकमान व राज्य सरकार पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने निशाना साधा है। पूनियां के अनुसार यह कोई पहली घटना नहीं है। इस तरह की घटनाएं पूर्व में भी घटित चुकी है। जिससे की साफ जाहिर होता है कि राजस्थान में कानून का इकबाल खत्म हो चुका है। इस घटना के कारण एक बार फिर से राजस्थान शर्मसार हुआ है।

यह भी पढ़े, विधायक चन्द्रभान सिंह समेत 3 अन्य विधायको का हुआ कार एक्सीडेंट, बाल बाल बचे

योगेश जाटव की मौत के बाद जनता पूछ रही है कि क्या राहुल गांधी और प्रियंका गांधी इन पीड़ितों के आंसू पहुंचने यहां आएंगे? क्या मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गहरी निंद्रा से बाहर आ पाएंगे?

उन्होंने यह भी कहा है कि अब पानी सिर के ऊपर चला गया है। पूनिया ने कहा झालावाड़ में जुलाई माह में कृष्णा वाल्मीकि की हत्या हो या फिर अलवर में ही मॉब लिंचिंग की घटना में योगेश जाटव से जुड़ा मामला हो। हर प्रकार की घटनाओं में प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल नजर आई।

दिलावर बोले ने घटना को बताया मॉब लिचिंग:

भाजपा के प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर ने इस घटना को मॉब लिंचिंग बताया है। दिलावर ने सीएम गहलोत पर इस हत्याकांड में शामिल एक समुदाय विशेष के लोगों को बचाने आरोप लगाया। उन्होंने एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया है।

उन्होंने कहा कि लोगों ने अनुसूचित जाति के योगेश कुमार जाटव को सामूहिक रूप से घेर कर हत्या कर दी है, जिसे आप लोग मॉब लिंचिंक कह देते हैं। वह गरीब और अनुसूचित जाति का है, इसलिए कांग्रेस के लोग उस के पक्ष में बोलने को तैयार नहीं है। इसका दुष्परिणाम राजस्थान सरकार को भुगतना होगा।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer