जयपुर

करोड़ों रुपए की चोरी करने वाले बांग्लादेशी चोर को किया गिरफ्तार, भेष बदलकर करता था रेकी

करोड़ों रुपए की चोरी करने वाले एक बांग्लादेशी चोर को गिरफ्तार किया है। यह फ्लाइट से जयपुर चोरी करने आता है। कई दिनों तक सड़कों पर भेष बदलकर रेकी करता है। चोरी का माल लेकर वापस चला जाता है।

करोड़ों रुपए की चोरी करने वाले बांग्लादेशी चोर को किया गिरफ्तार, भेष बदलकर करता था रेकी

जयपुर पुलिस ने फ्लाइट से जयपुर आकर करोड़ों रुपए की चोरी करने वाले एक बांग्लादेशी चोर को गिरफ्तार किया है। यह फ्लाइट से जयपुर चोरी करने आता है। कई दिनों तक सड़कों पर भेष बदलकर रेकी करता है। चोरी का माल लेकर वापस चला जाता है। खास बात है कि इसने नाम बदलकर तीन शादियां कर रखी है। चोरी के बाद हर बार अलग पत्नी के पास जाकर रहता था। यह नाम पता बदलकर रहता था। इसे कानपुर में चलती ट्रेन से पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़े, मानसून ने जाते हुए बरसाई रहमत, बीसलपुर बाँध में हुई पानी की आवक, जलसंकट टला

राजधानी जयपुर (Jaipur) में 5 अगस्त 2020 को एक परिवादी ने कोतवाली थाने में केस दर्ज कराया था. परिवादी ने बताया था कि उसकी फर्म से 12 लाख रुपए और दो चांदी के सिक्के तिजोरी समेत चोरी हो गए हैं, जिसके बाद पुलिस ने अलग अलग टीमों का गठन किया. टीप ने चौड़ा रास्ता, किशनपोल बाजार, अजमेरी गेट, माणकचौक, नाहरगढ़, संजय सर्किल और जालूपुरा में सैंकडों सीसीटीवी फुटेज को खंगाला. सीसीटीवी में मिले हुलिये के आधार पर एक साल की तलाश के बाद आरोपी मोहम्मद रजाक उर्फ कुदुस उर्फ मोहम्मद जमीर उद्दीन को कानपुर (Kanpur) से गिरफ्तार (Arrest) किया गया है.

डीसीपी (नार्थ) परिस देशमुख ने बताया कि रजाक ने बांग्लादेशी महिला से विवाह कर लिया था। पिछले लंबे समय से बांग्लादेश में दिनाजपुर में पत्नी व बच्चों के साथ रहता था। उसने पासपोर्ट भी बनवा लिया था। वह जयपुर में वारदात करने के बाद बांग्लादेश फरार हो जाता था। खास बात है कि वह चोरी की वारदात करने फ्लाइट से जयपुर आता था और चोरी का माल लेकर वापस चला जाता था। इतना ही नहीं उसने नाम बदल कर तीन शादियां कर रखी है। वह वारदात के बाद अलग महिला के पास चला जाता था। इससे वह पुलिस से बचता रहता था।

उसने जयपुर में शास्त्री नगर में रहने वाले सलीम नाम के व्यक्ति के घर को ठहरने का ठिकाना बना रखा था। जयपुर में सलीम के खिलाफ जालूपुरा, नाहरगढ़, कोतवाली और माणकचौक थाने में सात मुकदमे दर्ज है। इनमें सबसे पहला मुकदमा 2011 में जालूपुरा में दर्ज हुआ था। उसने 5 अगस्त 2019 को चौड़ा रास्ता में पालीवालों की गली में एक ऑफिस में ताले तोड़कर करीब 11.70 लाख रुपए और दो चांदी के सिक्के तिजोरी से चुरा लिए थे। तब सेक्टर 4, मालवीय नगर निवासी प्रवीण कुमार जैन ने कोतवाली थाने में केस दर्ज करवाया था।

आरोपी ट्रेन से कोलकाता होते हुए बांग्लादेश भागने की फिराक में था. डीसीपी परिस देशमुख ने बताया कि आरोपी बहुत शातिर किस्म का अपराधी है, जो दुकान का शटर तोड़ने की बजाय पीछे से एंट्री करता था. दुकान के पीछे एंट्रेस नहीं होने पर रोशनदान से अंदर प्रवेश करता है. जांच में सामने आया है कि इसी साल मार्च के महीने में भी एक साड़ी की दुकान से करीब एक करोड़ रुपयों की कीमती सामान की चोरी की वारदात को अंजाम दिया है, जहां नगद के साथ साथ आरोपी ने सोना और चांदी के सिक्के भी चुराए थे.

सीसीटीवी में लूंगी व बनियान में नजर आया
मोहम्मद रजाक ने जयपुर में करोडों रुपए की कई वारदातें की। कोतवाली एसीपी मेघचंद मीणा, थानाप्रभारी विक्रम सिंह चारण की टीम ने चौड़ा रास्ता, अजमेरी गेट, किशनपोल बाजार, जालुपूरा, संजय सर्किल, माणकचौक, नाहरगढ़ इलाकों में सैंकड़ों सीसीटीवी फुटेज खंगाले। यहां पर लगे सीसीटीवी में मोहम्मद रजाक सफेद लूंगी और बनियान में नजर आया था।

फुटपाथ पर सो कर की रेकी:

पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ जालूपुरा,नाहरगढ़,कोतवाली और माणक चौक पुलिस थाने में आठ मामले दर्ज हैं. और भी कई वारदातें खुलने की संभावनाएं है. शुरुआती जांच में सामने आया है कि आरोपी ने तीन शादियां कर रखी हैं, लेकिन किसी को भी उसके धंधे के बारे में जानकारी नहीं है. बताया जा रहा है कि आरोपी वारदात करने से पहले फुटपाथ पर सोकर रेकी करता था और वारदात होने के बाद फ्लाइट से बांग्लादेश चला जाता था.

अभी तक जांच में ये ही सामने आया है कि आरोपी अकेले ही वारदात को अंजाम देता था, लेकिन पुलिस को शक है कि और भी लोग उसके अपराध में शामिल हो सकते हैं. पुलिस को आरोपी से जयपुर में एक दर्जन वारदातें खुलने की उम्मीद है तो दूसरे शहरों में भी वारदातें खुलने की संभावना है. पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है. इसके बाद खुलासे हो सकते हैं.

फर्जी नाम व पता बताकर बच निकला:

मोहम्मद रजाक ट्रेन में पत्नी व बच्चों के साथ बांग्लादेश भाग गया था। तब हेडकांस्टेबल सुरेंद्र को बांग्लादेश जाने का पता लगा। जयपुर पुलिस ने उत्तरप्रदेश रेलवे पुलिस से संपर्क कर ट्रेन को एक स्टेशन पर रुकवाया। रजाक वहां पर फर्जी नाम व पता बताकर बच कर निकल गया। पुलिस ने उसकी फोटो भेजी। तब उसे दोबारा से कानपुर रेलवे स्टेशन पर पकड़ा गया। रजाक को पकड़कर पुलिस कानपुर से जयपुर ले आयी।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer