जोधपुर

मोबाइल लाइब्रेरी: ऊंटों ने चलाई धोरों के बच्चों की क्लास, जोधपुर के 30 गावों में ऊंटों पर चली मोबाइल लाइब्रेरी

मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत की गई है। जब पहली बार लाइब्रेरी गाँव पहुंची थी तब इसे गुब्बारों व फूलों से सजाया गया था। यह प्रदेश की पहली मोबाइल लाइब्रेरी है, जो ऊंट गाड़ी पर शुरू हुई।

मोबाइल लाइब्रेरी:

जोधपुर. कभी सुना है की लाइब्रेरी भी चलती फिरती हो सकती है। जी हाँ यह सच है। राजस्थान के दूर गावो व ढाणियों में रहने वाले बच्चों के लिए यह एक अनूठी पहल है। जोधपुर के 30 गावों में ऊंटों पर मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत की गई है। जब पहली बार लाइब्रेरी गाँव पहुंची थी तब इसे गुब्बारों व फूलों से सजाया गया था। यह प्रदेश की पहली मोबाइल लाइब्रेरी है, जो ऊंट गाड़ी पर शुरू हुई।

यह भी पढ़े, तालिबान में जल्द ही बनने जा रही सरकार, केबिनेट मंत्रियों के नाम का जल्द ही होगा ऐलान

गांव में पहुंचने के बाद जब बच्चों को इस बारे में बताया गया तो उनके चेहरे पर मुस्कान आ गई। चौपाल लगाकर इन बच्चों को किताबों के संसार के बारे में जानकारी दी गई। रूम टू रीड और जिला प्रशासन की ओर से चलाए जा रहे अंतरराष्ट्रीय रीडिंग कैंपेन 2021 के तहत इस मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत की गई है

लाइब्रेरी में है 1500 किताबें, सबसे ज्यादा कहानियों और ड्राइंग की:

ऊंट गाड़ी 8 सितंबर तक ओसियां कस्बे के गांव में घूमेगी। इसमें करीब 1500 किताब हैं, जिनमें सबसे ज्यादा स्टोरी और ड्राइंग की हैं। इस लाइब्रेरी में एक स्टोरी टेलर भी होगा, जो बच्चों को कहानियां सुनाएगा। देश भर के 9 राज्यों में इस संस्था का अभियान चल रहा है।

अलग अलग थीम की लाइब्रेरी:

यह मोबाइल लाइब्रेरी जोधपुर जिले के 30 गांवों के स्कूल में जाएगी। रूम टू रीड कैंपेन के तहत ‘नहीं रुकेंगे नन्हे कदम, घर पर भी सीखेंगे हम’, ‘मैं जहां, सीखना वहां,’ ‘इंडिया गेट्स रीडिंग एट होम’, की थीम रखी गई है। लाइब्रेरी जहां जाती है, वहां यदि टीचर नहीं है तो पैरेंट्स को बच्चों को किताब पढ़कर विषय के बारे में समझाना होता है। यदि आसपास कोई टीचर होता है तो पैरेंट्स की जगह वह बच्चों को कहानियां पढ़कर सुनाता है और मतलब समझाता है। यह लाइब्रेरी जहां जाती है, वहां के स्कूल में किताबें रखकर आ जाती है। यदि किसी बच्चे को किताब पढ़ना हो तो स्कूल से इशू करा सकते हैं।

मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी जोधपुर भल्लूराम खीचड़ ने बताया कि शिक्षा विभाग और रूम टू रीड संस्था के सहयोग से बच्चों को घर पर ही पढ़ने और सीखने के लिए इस मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत की गई है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer