बाराराजस्थान

ट्रांसफार्मर बना फायर बॉल, कोटा के 220 केवी के GSS में लगी भीषण आग

ट्रांसफार्मर में ऑयल होने के कारण आग ने पलभर में भयावह रूप ले लिया. देखते देखते भारी क्षमता का यह ट्रांसफार्मर आग का गोला बना गया. आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है.

ट्रांसफार्मर बना फायर बॉल, कोटा के 220 केवी के GSS में लगी भीषण आग

राजस्थान. शहर के बारां रोड स्थित डायरा गांव में विधुत प्रसारण निगम के 220 केवी ग्रिड स्टेशन (GSS) पर आज अचानक भीषण आग लग गई। आग लगने से अफरा-तफरी का माहौल हो गया। मौके पर मौजूद बिजली कर्मचारी दहशत में आ गए। तुरन्त उच्चाधिकारियों को बताया। अधिकारियों ने अग्निशमन विभाग को सूचना दी। सूचना पर अग्निशमन की 4 दमकल मौके के लिए रवाना हुई। इनमें 2 नगर निगम और 1-1 नागरिक सुरक्षा व CFCL की दमकल मौके पर पहुंची। आग काफी बड़ी थी। GSS जल गया था। बिजली आपूर्ति ठप हो गई थी।

यह भी पढें, खाद्य तेल हुआ सस्ता, सरसों तेल समेत गिरे इन सभी के दाम

ट्रांसफार्मर में ऑयल होने के कारण आग ने पलभर में भयावह रूप ले लिया. देखते देखते भारी क्षमता का यह ट्रांसफार्मर आग का गोला बना गया. आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है. प्रसारण निगम की टीम इसकी पड़ताल में जुटी है. अब यहां करीब 1 करोड़ रुपये की लागत से नया ट्रांसफार्मर लगाया जायेगा।

जानकारी के अनुसार कोटा-बारां रोड पर डाहरा गांव में स्थित विद्युत प्रसारण निगम के 220 केवी के जीएसएस में लगे जम्बो ट्रांसफार्मर में गुरुवार को अचानक भीषण आग लगी गई थी. जीएसएस पर तैनात इंजीनियरों और तकनीकी कर्मचारियों ने उच्चाधिकारियों को इसकी सूचना दी. उसके बाद 220 जीएसएस की बिजली सप्लाई बंद करवाई. आग पर काबू पाने के लिये कोटा नगर निगम के अग्निशमन विभाग, सिविल डिफेंस, श्रीनाथपुरम और गढ़ेपान सीएफसीएल फैक्ट्री से चार दमकलें मौके पर पहुंची और आग बुझाने के प्रयास शुरू किये।

8 दमकलों की मदद से डेढ़ घंटे में पाया काबू
सहायक अग्निशमन अधिकारी देवेंद्र गौतम ने बताया कि करीब 8 दमकलों की मदद से डेढ़ घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका. ट्रांसफार्मर के ऑयल टैंक का ढक्कन जाम होने के कारण आग बुझाने में देरी हुई थी. जिस ट्रांसफार्मर में आग लगी थी उसके पास दो और बड़े जम्बो ट्रांसफार्मर में लगे हुए थे. आग उन तक पहुंचती से उससे पहले ही उस पर काबू पा लिया गया. वरना प्रसारण निगम को करोड़ों रुपये का नुकसान हो जाता।

इस जीएसएस से 33 केवी के 8 फीडर और 11 केवी के 21 फीडर जुड़े हैं।
डाहरा स्थित 220 केवी के जीएसएस से 33 केवी के 8 फीडर और 11 केवी के 21 फीडर जुड़े हुए हैं. इसके साथ ही सुल्तानपुर और सीएफसीएल के 132 केवी के जीएसएस को भी इस जीएसएस से लाइन जा रही है. आग के कारण ये सब प्रभावित रहे. भीषण गर्मी के बीच लाइट चले जाने से इन इलाकों के लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker