जयपुरराजस्थान

रविन्द्र सिंह भाटी के विधानसभा घेराव के ऐलान से डरी गहलोत सरकार, धरना प्रदर्शन व रैलियों पर लगाई रोक

जयपुर. जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय (JNVU) के छात्रसंघ अध्यक्ष रविन्द्र सिंह भाटी (Ravindra Singh Bhati ) के आगामी विधानसभा सत्र के दौरान छात्र क्रांति के तहत 13 सितम्बर जयपुर कूच कर विधानसभा घेराव के आह्वान के बाद प्रदेश भर में युवाओं व छात्रों के भारी समर्थन मिलने की खुफिया तंत्र की रिपोर्टों के बाद गहलोत सरकार ने निर्देश जारी कर सार्वजनिक रूप से किसी भी प्रकार के भीड़-भाड़ सम्बन्धी कार्यक्रमों के आयोजनों पर रोक लगा दी है।

अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी बचाए रखने के जुगाड़ में लगे अशोक गहलोत नही चाहते कि आगामी विधानसभा सत्र के दौरान युवाओं का कोई आन्दोलन हो, जिससे आलाकमान को यह सन्देश जाए कि प्रदेश का युवा गहलोत सरकार से खफा है। जिसका खामियाजा देर सवेर कांग्रेस को ही उठाना पड़ेगा।

आलाकमान के सामने इस फजीहत से बचने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना को ढाल बना कर जिला कलक्टरों एवं पुलिस अधीक्षकों को निर्देश जारी कर सार्वजनिक रूप से भीड़भाड़ वाले कार्यक्रम यथा प्रदर्शन/जुलूस/रैलियों जैसे आयोजनों पर रोक लगा दी। जबकि राजस्थान से ज्यादा कोरोना के केस पंजाब व हरियाणा में ज्यादा आ रहे है, फिर भी वहां चुनावी रेलिया व किसान आन्दोलन हो रहे है।

राज्य सरकार के गृह विभाग ने जिला कलक्टरों एवं पुलिस अधीक्षकों को निर्देश जारी कर सार्वजनिक रूप से किसी भी प्रकार के भीड़-भाड़ सम्बन्धी कार्यक्रमों के आयोजनों पर रोक लगा दी है। गृह विभाग के प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार कोरोना की संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए कहा कि प्रशासन द्वारा यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी प्रकार के भीड़भाड़ वाले कार्यक्रम यथा प्रदर्शन/जुलूस/रैलियों जैसे आयोजन नहीं हो।

उन्होंने बताया कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) एवं नेशनल सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल (NCDC) ने भी ऐसे सार्वजनिक कार्यक्रमों के सुपर स्प्रेडर इवेंट में बदलने की संभावना के बारे में चिंता व्यक्त की है।

गृह विभाग का कहना है कि प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के पॉजिटिव मामलों में गिरावट आई है, फिर भी कुछ राज्य ऐसे हैं जो अभी भी दैनिक पॉजिटिव मामलों में वृद्धि के संकेत दर्शा रहे हैं।

इसलिए वर्तमान में पूरी तरह सजग रहने एवं सावधानी बरतने के साथ कोविड उपयुक्त व्यवहार, टेस्ट, टे्रक, ट्रिट प्रोटोकॉल एवं टीकाकरण के साथ-साथ मास्क का अनिवार्य उपयोग, सेनेटाइजेशन, दो गज की दूरी एवं बंद स्थानों पर उचित वेंटिलेशन का ध्यान रखने की आवश्यकता है। इसके साथ नो मास्क नो मूवमेंट की पालना भी सख्ती से करवाने के निर्देश दिए गए हैंं।

Sabal Singh Bhati

The Writer and Journalist.