राजस्थान

अवनि लखेरा द गोल्डन गर्ल: कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो ‘कुछ भी असंभव’ नहीं है, भारत की पहली पैरालंपिक महिला गोल्ड मेडलिस्ट ने किया है यह साबित,लगा बधाइयों का तांता

अवनि लखेरा ने 10 मीटर एयर राइफल में दिलाया। इसके साथ ही पुरुषों की एफ 56 कैटेगरी में योगेश कथुनिया ने डिस्कस थ्रो में सिल्वर मेडल...

अवनि लखेरा द गोल्डन गर्ल:

जयपुर. टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में शूटिंग में सोना जीतकर (Gold Medal)  गोल्डन गर्ल बनी अवनि लखेरा (Golden Girl Avni Lakhera) ने जता कि कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो ‘कुछ भी असंभव’ नहीं है. साल 2012 में एक एक्सीडेंट के बाद अवनी व्हील चेयर पर आ गई थी.

लेकिन उन्होंने निशानेबाजी के खेल को ना सिर्फ अपना शौक बल्कि प्रोफेशन भी बना लिया था. कोरोना काल में भी वे अपने घर पर रहकर पैरालपिंक की तैयारियों में जुटी रही. अवनि का सपना था कि वह पैरालंपिक में गोल्ड मेडल जीते. अवनि की जिद और जुनून ने उसके इस सपने को आज पूरा कर दिया है.  पैरालंपिक में उसे गोल्ड मेडल जीतकर नया इतिहास लिखा है

यह भी पढ़े सिल्वर मेडल नीलाम करने वाली महिला एथलीट ने बताया, नीलामी का कारण, हो रही हर जगह तारीफ

टोक्यो पैरालिंपिक (Tokyo Paralympics) में आज भारत के लिए पहला गोल्ड मेडल अविन लखेरा(Avin Lakhera) ने 10 मीटर एयर राइफल में दिलाया। इसके साथ ही पुरुषों की एफ 56 कैटेगरी में योगेश कथुनिया(Yogesh Kathuniya) ने डिस्कस थ्रो में सिल्वर मेडल जीता है। इसके साथ ही जेवलिन में भारत को देवेंद्र झाझारिया (Devendra Jhajharia) ने सिल्वर और सुंदर गुर्जर (Sundar Gurjar) ने ब्रॉन्ज मेडल दिलाया हैं। इसी के साथ भारत को 1 गोल्ड, 4 सिल्वर और 2 ब्रॉन्ज मेडल मिल गए।

राजस्थान(Rajasthan) की अवनि लखेरा ने शूटिंग में देश के लिए पहला गोल्ड मेडल(Gold medal) जीता। जयपुर(Jaipur) की रहने वाली अवनि लखेरा पैरालिंपिक गेम्स में गोल्ड जीतने वाली भारत की पहली महिला एथलीट(First Female Athlete) भी हैं। अवनि ने महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के क्लास एसएच1 के फाइनल में 249 पॉइंट स्कोर कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। इससे पहले उन्होंने क्वालिफिकेशन राउंड में अवनि 7वें स्थान पर रहकर फाइनल में जगह बनाई थी।

सीएम गहलोत ने दी बधाई:

शूटर अवनि लेखरा की इस ऐतिहासिक जीत पर सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट कर बधाई दी है. सीएम गहलोत ने लिखा कि इस शानदार परफॉर्मेंस के जरिए अवनि ने इतिहास रच दिया है. पूरे देश को उनकी इस उपलब्धि पर गर्व है. भारतीय खेलों के लिए ये एतिहासिक दिन है.

लोकसभा स्पीकर बिरला ने किया ट्वीट:

राजधानी की बेटी अवनि की जीत पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बधाई दी है. स्पीकर बिरला ने ट्वीट कर लिखा कि अवनि ने पैरा शूटिंग में स्वर्ण पदक जीत इतिहास रचा. पैराशूटिंग में स्वर्ण जीतने वाली वे पहली महिला खिलाड़ी हैं. उनकी सफलता भारतीय खेल जगत के स्वर्णिम अध्याय की नई शुरुआत हुई है. देश को अवनि लेखरा पर गर्व है, वे अनेक युवाओं की प्रेरणा स्रोत बनेंगी.

सचिन पायलट ने भी दी बधाई: 

शूटर बेटी अवनि के गोल्ड जीतने पर सचिन पायलट ने भी ट्वीट कर बधाई संदेश दिया है.

राज्यपाल मिश्र ने दी बधाई:

टोक्यो पैरा ओलंपिक में पदक विजेताओं को राज्यपाल ने बधाई दी है. कलराज मिश्र ने शूटिंग में स्वर्णिम जीत पर अवनि लखेरा, जैवलिन थ्रो में रजत पदक  विजेता देवेन्द्र झाझड़िया, कांस्य पदक विजेता सुंदर सिंह गुर्जर को बधाई दी है.

वहीं, डिस्कस थ्रोअर योगेश कथूनिया, महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल और ऊंची कूद के एथलीट निषाद कुमार को रजत पदक जीतने पर बधाई दी. उन्होंने कहा कि इन खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से देश को गौरवान्वित किया.

टोक्यो पैरालंपिक में शूटिंग में सोना जीतकर गोल्डन गर्ल बनी अवनि लखेरा ने जता कि कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो ‘कुछ भी असंभव’ नहीं है. साल 2012 में एक एक्सीडेंट के बाद अवनी व्हील चेयर पर आ गई थी. लेकिन उन्होंने निशानेबाजी के खेल को ना सिर्फ अपना शौक बल्कि प्रोफेशन भी बना लिया था.

कोरोना काल में भी वे अपने घर पर रहकर पैरालपिंक की तैयारियों में जुटी रही. अवनि का सपना था कि वह पैरालंपिक में गोल्ड मेडल जीते. अवनि की जिद और जुनून ने उसके इस सपने को आज पूरा कर दिया है. पैरालंपिक में उसे गोल्ड मेडल जीतकर नया इतिहास लिखा है.

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer