अशोक गहलोत का 109 विधायकों के समर्थन का दावा गलत, गहलोत गुट के पास केवल 99 विधायक

- राजस्थान में जब से सियासी संकट शुरू हुआ हैं तब से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनका गुट 109 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहा है। लेकिन मीडिया रेपोर्ट्स के अनुसार, अशोक गहलोत गुट के पास केवल 99 विधायक ही हैं. इन 99 में से 92 विधायक ही शुक्रवार को जयपुर से जैसलमेर पहुंचे।चार मंत्रियों समेत 7 विधायक जयपुर में ही हैं। इसमें से कुछ विधायक शनिवार को जैसलमेर  पहुँच सकते हैं।

राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 101 विधायकों के समर्थन की जरूरत है। सीपीएम विधायक बलवान पूनिया ने अशोक गहलोत को बहुमत साबित करने के लिए साथ देने का भरोसा दिलाया था। लेकिन वे न तो जयपुर में बाडेबंदी में थे न ही अन्य कांग्रेसी विधायकों के साथ जैसलमेर पहुंचे। पूनिया ने अगर पार्टी व्हिप का पालन करते हुए कांग्रेस के पक्ष में मत नहीं दिया तो गहलोत सरकार के पास केवल 99विधायकों का ही समर्थन बचेगा, अगर ऐसा होता हैं तो गहलोत सरकार खतरे मे आ जाएगी।

गहलोत सरकार के एक मंत्री मास्टर भंवरलाल गंभीर रूप से बीमार हैं और मतदान नहीं कर सकते हैं। फिलहाल उनका मत किसी गुट  में नहीं है। अगर गहलोत के पास 99 मत ही रहते हैं तो सीपी जोशी मतदान नही कर पाएंगे यानी सरकार नहीं बचा सकते। स्पीकर सीपी जोशी सिर्फ पक्ष-विपक्ष की समान मत संख्या पर ही मतदान कर सकते हैं। जोशी सरकार को तभी बचा सकते हैं जब गहलोत कम से कम 100 विधायक जुटा लें ऐसा तभी संभव है जब सीपीएम के दो विधायकों में से कम से कोई एक गहलोत के पक्ष में मत करे.
More Stories
Raghuvansh Prasad Singh Death
पूर्व केन्द्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह का निधन, दिल्ली एम्स में थे भर्ती