राजस्थान

वसुंधरा राजे ने किया गहलोत सरकार पर, बिजली कटौती को लेकर साधा निशाना    

वसुंधरा राजे ने शनिवार को राज्य में बिजली संकट को लेकर राजस्थान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अनिर्धारित बिजली कटौती कांग्रेस सरकार के कुप्रबंधन का परिणाम है।

वसुंधरा राजे ने किया गहलोत सरकार पर, बिजली कटौती को लेकर साधा निशाना
   
राजस्थान. भाजपा उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने शनिवार को राज्य में बिजली संकट को लेकर राजस्थान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अनिर्धारित बिजली कटौती कांग्रेस सरकार के कुप्रबंधन का परिणाम है। राजे ने एक बयान में कहा कि गांवों और शहरों में लोग बिजली कटौती से परेशान हैं

इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि गहलोत सरकार की उदासीनता की वजह से कई बिजली घर बंद हैं और कई बंद होने की स्थिति में हैं. प्रदेश में विद्युत संकट पैदा हो गया है.

यह भी पढ़े, शिक्षा मंत्री डोटासरा ने लिए कई महत्वपूर्ण फैसले, मंत्रालय भवन में उच्च स्तरीय बैठक का हुआ आयोजन

राज्य सरकार नहीं कर रही कोयले का भुगतान:

बीजेपी की दिग्‍गज नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री राजे ने अपने बयान में कहा कि राज्य सरकार कोयले का भुगतान नहीं कर रही, इसलिए कोयला मिलना बंद हो गया. इससे बिजली उत्पादन खासा प्रभावित हुआ है. जबकि हमारे समय में कोयले का समय पर भुगतान होता था, इसलिए कोयले की कमी नहीं रहती थी.बिजली के उत्पादन में भी बाधा नहीं आती थी.

राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौर ने भी बिजली की कमी को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा.

उन्होंने एक ट्वीट में दावा किया कि कालीसिंध और सूरतगढ़ थर्मल प्लांट की इकाइयों के बंद होने से 4,000 मेगावाट बिजली उत्पादन क्षमता प्रभावित हुई है और इसके परिणामस्वरूप ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को अघोषित बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है

ऊर्जा मंत्री कल्ला ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि केंद्र सरकार और कोयला कंपनियों से बात कर समस्या के समाधान की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने कहा, “मानसून के दौरान बिजली की इतनी खपत नहीं होती है। कमजोर मानसून के कारण मांग में वृद्धि हुई है। विभिन्न कोयला खदानों में पानी घुसने के कारण कोयले की आपूर्ति भी बाधित हुई है। कोल इंडिया पर्याप्त कोयले की आपूर्ति नहीं कर रही है।”

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer