जयपुरराजस्थान

CM अशोक गहलोत को अस्पताल से मिली छुट्टी, चिकित्सकों ने कुछ दिन आराम करने की सलाह दी

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) को आज सवाई मान सिंह (SMS) अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। मेडिकल बोर्ड ने रिपोर्ट्स का अध्ययन करने के बाद उनकी अच्छी रिकवरी को देखते हुए डिस्चार्ज कर दिया है।

गहलोत की हाल ही में एंजियोप्लास्टी की गई थी। अब वे स्वस्थ है और उनकी सारी जांचें भी नार्मल आई है, हालांकि चिकित्सकों ने उन्हें कुछ दिन आराम करने की सलाह दी है। गहलोत की सीने में दर्द की शिकायत के बाद एंजियोप्लास्टी कर स्टेंट डाला गया था। अब वे बेहतर महसूस कर रहे हैं।

मेडिकल बोर्ड ने डिस्चार्ज करने का किया फैसला

सीएम गहलोत की सारी रिपोर्ट नार्मल आने के बाद मेडिकल बोर्ड ने गहलोत को डिस्चार्ज करने का फैसला किया। कल शाम को चिकित्सकों ने रात अस्पताल में रुकने का आग्रह किया था। इस पर गहलोत चिकित्सकों के आग्रह को मानकर वहीं रूके।

आज सुबह SMS अस्पताल में चिकित्सा मंत्री मंत्री रघु शर्मा , मुख्यमंत्री के पुत्र और आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत, SMS मेडिकल मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी, अस्पताल अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा सहित मेडिकल मेडिकल बोर्ड के सदस्यों ने मुख्यमंत्री की जांच रिपोर्ट पर डिस्कशन किया। इसके बाद के बाद मेडिकल बोर्ड ने गहलोत को डिस्चार्ज करने का फैसला किया।

डिस्चार्ज होने के बाद अशोक गहलोत मोती डूंगरी दर्शन करने पहुंचे

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के SMS अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा और वैभव गहलोत मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर में पहुंचे। यहां मंदिर महंत कैलाश चंद शर्मा ने उन्हें पूजा-अर्चना करवाई।

पूर्व पौत्री काश्विनी ने लगाया तिलक

सीएम अशोक गहलोत ने ट्विट कर बताया कि हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद निवास के लिए निकलने से पूर्व पौत्री काश्विनी ने तिलक लगाया और लम्बी उम्र की कामना की

दरअसल, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सीने में दर्द की शिकायत के बाद 27 अगस्त को जयपुर के सवाई मान सिंह (SMS) अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां एंजियोप्लास्टी कर स्टेंट डाला गया था। उनके बाद स्वास्थ्य में सुधार हुआ और  29 अगस्त को उन्हें डिस्चार्ज किया। चिकित्सकों की सलाह पर सीएम अशोक गहलोत ने अस्पताल के वार्ड में चहलकदमी भी की। इस दौरान उनसे मिलने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया भी पहुंचे. उन्होंने कहा कि वह यहां उनकी कुशल क्षेम पूछने आए थे।

Sabal Singh Bhati

The Writer and Journalist.