जयपुरराजस्थान

फुटवियर कम्पनी में आग लगने से हुआ भारी नुकसान, आग की लपटों से घिरी फैक्ट्री, माल के नष्ट होने की खबर

फुटवियर फैक्ट्री में लगी भीषण आग। आग लगने के बाद फेक्ट्री से धुआं निकलने लगा तथा देखते ही देखते लपटें तेज होने लगी जिसे देख आसपास के लोगो ने पुलिस को बुलाया।

फुटवियर कम्पनी में आग लगने से हुआ भारी नुकसान, आग की लपटों से घिरी फैक्ट्री, माल के नष्ट होने की खबर

जयपुर. जयपुर के विश्वकर्मा थाना इलाके में अलसुबह बढ़ारना पुलिया के पास रीको इलाके में चप्पल फैक्ट्री (फुटवियर फैक्ट्री) में लगी भीषण आग। आग लगने के बाद फेक्ट्री से धुआं निकलने लगा तथा देखते ही देखते लपटें तेज होने लगी जिसे देख आसपास के लोगो ने पुलिस को बुलाया।
मौके पर विश्वकर्मा थाना पुलिस और दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंची। बताया जा रहा है कि तड़के करीब चार बजे अग्रवाल फुटवियर फैक्ट्री में अचानक आग लगी गयी थी।

यह भी पढ़े, स्टोनमैन के हमले से 26 वर्षीय युवक की मौत, साल 1989 में भी था स्टोनमैन का खतरा

उसके बाद मौके पर दो दर्जन से भी ज्यादा दमकलें पहुंची। 6 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दमकल कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया। यह फैक्ट्री दो मंजिला भवन में संचालित थी। अच्छी बात यह है कि जिस समय आग लगी थी उस समय फैक्ट्री में कोई कर्मचारी नहीं था।

हांलाकि इस फुटवियर फैक्ट्री मे रबर और प्लास्टिक का मैटेरियल रखा था जिससे चप्पल और जूते बनाए जाते थे। साथ ही एक कमरे में गत्ते से बने हुए हजारों कार्टन भी रखे हुए थे जिनमें पैक कर चप्पल-जूतों को मार्केट में बेचा जाता था।

फैक्ट्री में रखा यह सारा सामान आग से लगभग पूरी तरह से जल गया। इसके अलावा बचा हुआ सामान दमकल कर्मियों के द्वारा की गई पानी की तेज बौछारों से खराब हो गया। फैक्ट्री भवन के पास ही ट्रांसफार्मर स्थित है। गनीमत रही कि आग लगने के कुछ देर बाद ही पुलिस ने बिजली विभाग की मदद से आसपास के क्षेत्र की बिजली कुछ घंटों के लिए काट दी थी। और कोई और बड़ा हादसा होते होते रह गया। पुलिस ने यह पुष्टि की है कि आग लगने से किसी तरह की कोई जनहानि नहीं हुई है लेकिन हां वहां रखा लगभग पूरा माल नष्ट हो गया। जिसकी कीमत लाखों रुपयों में हैं। दमकल का मानना है कि संभव है कि फैक्ट्री में आग शाॅर्ट सर्किट होने से लगी है। कारणों की जांच पुलिस कर रही है।

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer