राजस्थान

प्रदेश में एक सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे,क्लास में योग की सलाह

प्रदेश में साढ़े चार माह बाद एक सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के लिए सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे। शिक्षा विभाग ने बुधवार को स्कूल खोलने को लेकर एसओपी जारी

प्रदेश में एक सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे,क्लास में योग की सलाह

जयपुर : प्रदेश में साढ़े चार माह बाद एक सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के लिए सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे। शिक्षा विभाग ने बुधवार को स्कूल खोलने को लेकर एसओपी जारी की। इसके तहत 9वीं और 11वीं के विद्यार्थियों को सुबह 7:30 बजे से जबकि 10वीं-12वीं के विद्यार्थियों को सुबह 8 बजे से बुलाया गया है। इन कक्षाओं के समय में आधा घंटे का अंतर रखा गया है ताकि विद्यार्थी एकत्र न हो सकें।

इसके अलावा पहली बार विभाग की एसओपी में योग को महत्व दिया गया है। इसमें कहा गया है कि विद्यार्थियों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए कक्षा-कक्ष में कुछ मिनटों के लिए विद्यार्थियों से योग की क्रियाएं भी कराई जा सकती हैं। स्कूलों में प्रार्थना सभा, सामूहिक खेल आयोजन, उत्सव और रैलियों के आयोजन पर रोक रहेगी। विद्यार्थियों की उपस्थिति बाध्यकारी नहीं रहेगी। वे अभिभावकों की स्वीकृति के बाद ही स्कूल आ सकेंगे। पहली से आठवीं तक के बच्चों के लिए ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी।

यह भी पढ़े : उदयपुर : हवाला कारोबार का बड़ा खुलासा, एक करोड़ 48 लाख राशि को किया बरामद,पुलिस ने नगदी समेत कार को किया जब्त

जहां दो पाली, वहां शाम 6 बजे तक चलेंगे स्कूल


51 लाख विद्यार्थी हैं 9वीं से 12वीं तक

सरकारी : 14914 स्कूलों में 26 लाख विद्यार्थी अध्ययनरत।

निजी : 16180 स्कूलों में 25 लाख विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं।

कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए एक सितंबर से स्कूलों के संचालन की तैयारी है। पहले चरण में 9वीं से 12वीं तक के बच्चों के लिए स्कूल खोले जाएंगे।
सौरभ स्वामी, निदेशक, शिक्षा विभाग

स्कूलों में नहीं पकाया जाएगा मिड डे मिल : स्कूलों में मिड डे मील पर रोक रहेगी। अभी बच्चों को सूखा राशन ही बांटा जाएगा।

स्कूल बस के ड्राइवर-कंडक्टर को कम से कम एक डोज जरूरी, एसी पर रोक रहेगी

स्कूल के लिए : समस्त स्टाफ और विद्यार्थी के लिए अनिवार्य रूप से मास्क लगाकर आएं। शनिवार को भी शिक्षण कार्य। संभव हो तो सिंगल सीटेड बेंच या डेस्क का उपयोग किया जाए। अन्यथा कक्षा से फर्नीचर बाहर निकालकर दरी पर शारीरिक दूरी का पालन करते हुए बैठाया जाए। प्रतिदिन सफाई की जाए और इसका रिकार्ड रखा जाए। स्कूल में एसी का उपयोग न किया जाए। करें तो भी तो तापमान 24 से 30 डिग्री सेल्सियस रखा जाए।

विद्यार्थियों के लिए : विद्यार्थी अपने कक्ष में ही भोजन करेंगे। कक्षा अध्यापक भी इस दौरान साथ रहेंगे। बच्चे पानी की बोतल खुद ही लाएंगे। बोतल की अदला बदली नहीं करेंगे। विद्यार्थी पेन, नोटबुक साझा नहीं करेंगे।

स्कूलवाहिनी के लिए : ड्राइवर व कंडक्टर को 14 दिन पहले वैक्सीन की कम से कम एक डोज लगी हो।

छात्रावास के लिए : बीमार व किसी लक्षण वाले विद्यार्थी को रहने की मंजूरी न मिले। नियमित अंतराल पर जांच हो।

विद्यार्थियों के बैड समुचित दूरी पर रखे जाए। अस्थायी पार्टीशन बनाए जाए।

नियमित अंतराल पर विद्यार्थियों की जांच कराई जाए।

विद्यार्थियों के बार बार बाहर या निवास स्थान पर जाने पर रोक लगाई जाए। अवांछित लोगों के प्रवेश पर रोक लगाई जाए।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer