rajasthan-bjp-president-satish-poonia
भाजपा ने शुरू की अपने विधायकों की बाड़ेबंदी

Rajasthan Political Crisis: कॉंग्रेस के बाद अब बीजेपी ने शुरू की अपने विधायकों की बाड़ेबंदी

- राजस्थान में चल रहे सियासी संकट (Rajasthan Political Crisis) में एक नया मोड़ आया हैं। जहाँ कॉंग्रेस के बाद अब भाजपा ने भी अपने विधायकों की बाड़ेबंदी शुरू कर दी हैं। राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा का सत्र शुरू होने वाला है, ऐसे में अब भाजपा (BJP) को डर हैं की काँग्रेस उनके विधायकों को तोड़ सकती हैं। अब भाजपा (BJP) विधायकों की बाड़ेबंदी कर टूटने से बचाने की कोशिश कर रही हैं।

सिरोही, जालौर और उदयपुर संभाग के लगभग 12 विधायकों को अहमदाबाद के रिसॉर्ट में रखा गया है। वहीं 6 अन्य विधायकों को गुजरात के पोरबंदर भेजा गया हैं। इनमें से भीलवाड़ा के 3 विधायक, जिनमें आसींद के विधायक जबर सिंह सांखला, जहाजपुर के गोपीचंद मीणा और मांडलगढ़ के गोपाल शर्मा शामिल हैं। बता दें ये तीनों विधायक पहली बार विधायक चुने गए हैं। इन तीनों के साथ अन्य विधायकों को जयपुर एयरपोर्ट से चार्टर प्लेन से पोरबंदर भेजा गया हैं।

विधायकों की बाड़ेबंदी पर राजस्थान बीजेपी (Rajasthan BJP) के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया बोले, बीजेपी को गुजरात इसलिए भेजा गया हैं क्योंकि अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली राजस्थान की काँग्रेस सरकार अधिकारियों का प्रयोग कर विधायकों को नैतिक व अनैतिक साधनों से लुभाने का प्रयास कर रही हैं।

पूनिया ने कहा कि, ’15 से 20 बीजेपी विधायकों को गुजरात भेजा गया है। यह बात स्पष्ट है कि अशोक गहलोत के पास सरकार को बचाने के लिए पर्याप्त संख्या बल नहीं है। 14 अगस्त की स्थिति पर निर्भर करता है कि बीजेपी पायलट गुट के साथ सरकार बनाने के लिए दावा करेगी या नहीं। मैं इसके बारे में अभी कुछ नहीं कह सकता।’

भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janata Party) ने अपने विधायकों को गुजरात भेज तो दिया हैं, लेकिन अभी यह मानने को तैयार नही कि विधायकों की बाड़ेबंदी की जा रही हैं। भाजपा इसे विधायकों के भ्रमण का नाम दे रही हैं।

भारतीय जनता पार्टी के सूत्रों के अनुसार, बीजेपी और सहयोगी आरएलपी के सभी विधायक विधानसभा सत्र से ठीक दो दिन पहले एकजुट होकर एक साथ जयपुर शहर के किसी बड़े रिसॉर्ट में रुकेंगे।

More Stories
kair sangari कैर सांगरी
राजस्थान की प्रसिद्ध कैर सांगरी की चटपटी सब्जी