राजस्थान

Rajasthan Revenue Drop:लॉकडाउन की वजह से राजस्थान के राजस्व में 80 प्रतिशत की गिरावट:

- Rajasthan Revenue Drop: प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि, कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गये लॉकडाउन की वजह से राजस्थान के राजस्व में 80 प्रतिशत की गिरावट आ चुकी है। सीएम गहलोत ने कहा कि, कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद राजस्व तेजी से प्राप्त हो उस तरह से आर्थिक गतिविधियां बढ़नी चाहिए।

सीएम गहलोत ने हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड द्वारा राज्य सरकार को कोरोना के खिलाफ जारी जंग में मदद के लिए 500 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर सौंपने के मौके पर आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में बोलते हुए ये बात कही। गहलोत ने कहा कि, ‘हमने लॉकडाउन लगाया लेकिन हमारी वित्तीय हालत यूनाइटेड किंगडम (UK) की जैसी नहीं है। इसलिये आज हम इस परेशानी (Rajasthan Revenue Drop) में हैं। लॉकडाउन की वजह से हमारे राजस्व में 80 प्रतिशत की गिरावट आ चुकी हैं।”

गहलोत ने कहा कि, ‘यह हालत कोरोना के कारण लगाये गये लॉकडाउन की वजह सेन उत्पन्न हुई है। इसलिए हम चाहते हैं कि जैसे ही प्रदेश में कोरोना के मामलों में कमी आये, इसके बाद आर्थिक गतिविधियां इस तरह से बढ़ें कि राजस्व फिर से तेजी से आना शुरू हो जाए।’

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इस व्यक्त कोरोना के टीके को प्राथमिकता दे रही है। प्रदेश में 5.81 लाख टीके हर रोज लगाए जा रहे हैं। कार्यक्रम बोलते हुए वेदांता रिसोर्सिज के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने कहा कि, ‘कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जो प्रभाव हमारे जीवन और हमारे आसपास पड़ा हैं उसको  लेकर मैं बहुत चिंतित हूं।’

अग्रवाल ने कहा कि इस मुश्किल व्यक्त में वेदांता ग्रुप अपने लोगों और सरकार के साथ मजबूती से खड़ा है। ‘इस महामारी के खिलाफ जारी जंग में हम देशभर में अपना पूरा सहयोग देने के लिये प्रतिबद्ध हैं।’ ‘हिन्दुस्तान जिंक और केयर्न इंडिया के माध्यम से राजस्थान हमेशा से ही मेरे दिल के करीब रहा है। हम यह सुनिश्चित करते रहेंगे कि प्रशासन को हमारी इकाइयों से ऑक्सीजन और अस्पताल के बिस्तरों की सुविधा प्राथमिक रूप से आपूर्ति और उपलब्ध कराई जाती रहे।’ हिन्दुस्तान जिंक और केयर्न इंडिया दोनों ही वेदांता ग्रुप की कंपनियां हैं।

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker