राजस्थान

रणथम्भौर में बाघिन टी 8 ने किया सांभर के बच्चे का शिकार, पर्यटकों ने कैमरे में किया कैद, वीडियो वायरल

रणथम्भौर में गुरुवार को बाघिन को सांभर के बच्चे का शिकार करते देख पर्यटक रोमांचित हुए। पर्यटकों ने बाघिन का फोटो वीडियो भी बनाया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल भी किया।

रणथम्भौर में बाघिन टी 8 ने किया सांभर के बच्चे का शिकार, पर्यटकों ने कैमरे में किया कैद, वीडियो वायरल

जयपुर. रणथम्भौर में गुरुवार को बाघिन को सांभर के बच्चे का शिकार करते देख पर्यटक रोमांचित हुए। पर्यटकों ने बाघिन का फोटो वीडियो भी बनाया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल भी किया।बाघिन को लाइव शिकार करते देखना, पर्यटकों के लिए किसी रोमांच से कम नहीं था। इसका वीडियो भी सामने आया है। रणथंभौर नेशनल पार्क के ओडन्या की तलाई वन क्षेत्र में गुरुवार सुबह की टाइगर सफारी के दौरान पर्यटकों ने बाघिन को शिकार करते देखा। दो जिप्सी और एक केंटर के पर्यटकों को बाघिन टी-8 लाडली सांभर के बच्चे का शिकार करती हुई दिखी।

यह भी पढ़े, T-105 बाघिन ने एक दिया एक साथ 3 शावकों को जन्म, बढ़ा बाघों के कुनबा

जानकारी के अनुसार बाघिन टी—8 ने गुरुवार सुबह जोन नंबर 6 में सांभर के बच्चे का शिकार किया। इस दौरान जब वह सूखी तलाई से गुजर रही थी तब पर्यटकों ने उसे कैमरे में कैद किया। गौरतलब है कि बरसात के मौसम शुरू होने के बाद से 1 जून से 30 सितंबर तक रणथंभौर पार्क सहित अन्य सफारी बंद हैं। लेकिन जोन के बाहर पर्यटक आ—जा सकते हैं। वही भ्रमण के दौरान पर्यटकों ने यह दृश्य अपने कैमरे में कैद किया।

टी-8 बाघिन अपने तीन शावकों का भरण पोषण कर रही है। बाघिन लाडली टी-8 के टी-127 (लव), टी-128 (कुश), टी-129 (लक्ष्मी) शावक हैं। फिलहाल ये अपनी मां के ही साथ रह रहे हैं। बारिश के मौसम में रणथम्भौर के पांच जोन में पर्यटन बंद रहता है। बाहरी जोन 6 से 10 तक में पर्यटन चालू रहता है।फिलहाल रणथम्भौर जोन नंबर 9 को छोड़कर 6,7,8,10 में पर्यटन चल रहा है। फिलहाल रणथम्भौर में 84 टाइगर हैं। इनमें से रणथम्भौर प्रथम में 74 और रणथम्भौर द्वितीय में 10 टाइगर हैं।

रणथम्भौर में अब 74 बाघ-बाघिन, इनमें 24 शावक:

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले टी-105 अपने चार महीनों के शावकों के साथ नजर आई थी। वन विभाग की माने तो रणथम्भौर प्रथम में अब बाघों की संख्या 74 हो गई है। इनमें 20 बाघ, 30 बाघिन व 24 शावक शामिल हैं। वहीं रणथम्भौर के दूसरे डिवीजन करौली के कैलादेवी अभ्यारण्य में भी करीब 10 बाघ बाघिन विचरण कर रहे है। ऐसे में रणथम्भौर में कुल बाघ बाघिनों का आंकड़ा 84 के आसपास हो जाता है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer