टोंक

घी की मिलावट करने वाले कारखाने पर पुलिस ने मारा छापा, दुकान को किया सीज

घी में मिलावट की आशंका पर मेहंदीबाग स्थित एक दुकान को सीज कर दिया। साथ ही दुकान मालिक के कारखाने पर छापा मार कर घी बनाने के उपकरण व कई नामी कम्पनियों के रेपर बरामद किए हैं।

घी की मिलावट करने वाले कारखाने पर पुलिस ने मारा छापा, दुकान को किया सीज

टोंक. पुरानी टोंक थाना पुलिस ने शुक्रवार को घी में मिलावट की आशंका पर मेहंदीबाग स्थित एक दुकान को सीज कर दिया। साथ ही दुकान मालिक के कारखाने पर छापा मार कर घी बनाने के उपकरण व कई नामी कम्पनियों के रेपर बरामद किए हैं।

पुलिस के साथ चिकित्सा एवं स्वास्थ विभाग की खाद्य सुरक्षा टीम और सरस डेयरी के प्रतिनिधि भी थे। पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई। पुरानी टोंक थाना प्रभारी संग्राम सिंह राजावत ने बताया कि सूचना मिली थी कि पुरानी टोंक क्षेत्र में मिलावटी घी बनाया जा रहा है।

यह भी पढ़े, टीचर के घर को चोरों ने बनाया निशाना, तिजोरी से 90 लाख की हुई चोरी

इस पर पुलिस जाप्ते के साथ निवाई दरवाजे के समीप मुस्ताक और सरदार के मकान में पुलिस पहुंची। जहां घी बनाने वाला आरोपी मेहंदीबाग निवासी मनीष खण्डेलवाल पुत्र मदनलाल पुलिस को देखकर दीवार फांद कर फरार हो गया। पुलिस ने गोदाम में देखा तो वहां बड़ी मात्रा में मिलावट की सामग्री मिली।

पुलिस ने मौके पर से घी से भरे हुए 7 पीपे, वनस्पती घी के 5 पीपे, अलग-अलग नामी कम्पनियों की विभिन्न वजन की एक हजार 812 थैलियां, पीपे पर लगाए जाने वाले विभिन्न कम्पनियों के 912 रेपर, तोलने की मशीन, घी बनाने के उपकरण, गैस सिलेंडर, भट्टी मैकिंग का सामान, पैकिंग का सामान, अन्य मार्का के पैकिंग के खाली कर्टन जब्त किए हैं।

इसके बाद पुलिस आरोपी की मेहंदीबाग स्थित दुकान पर पहुंची और दुकान को सीज कर दिया। पुलिस ने आरोपी मनीष खण्डेलवाल के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। कार्रवाई के दौरान टीम में एएसआई अर्जुन लाल, हैड कांस्टेबल शंकरलाल, शिवजीलाल, ओमप्रकाश, राजेश, मोडूराम, खियाराम, रूपकिशोर, परमेश्वर, सुनीता शामिल थे। इसके बाद उन्होंने चिकित्सा विभाग की खाद्य सुरक्षा टीम और सरस डेयरी से प्रतिनिधि को बुलाया। उनकी मौजूदगी में कार्रवाई की गई। अब सम्बन्धित कम्पनियों की ओर से भी कार्रवाई की जाएगी।

जिलेभर में होती है सप्लाई:

जहां पुलिस ने कार्रवाई की वहां बड़े वाहनों में घी के पीपे ले जाए जाते हैं। ऐसे में आशंका है कि इस कारखाने में बनने वाला घी जिलेभर में सप्लाई किया जाता है। ऐसे में जिलेभर के लोग मिलावट का उपयोग कर सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer