स्पोर्ट्स

स्क्रीनिंग में फिल्म 83 देखने के बाद मान सिंह के बेटे ने की प्रशंसा

नई दिल्ली, 24 दिसम्बर ()। अभिनेता रणवीर सिंह की फिल्म 83 के रिलीज होने से पहले शुक्रवार को पूर्व क्रिकेट प्रशासक और 1983 विश्व कप विजेता टीम के मैनेजर पीआर मान सिंह के बेटे विक्रम मान सिंह ने मुंबई में एक विशेष स्क्रीनिंग में फिल्म देखने के बाद उनकी प्रशंसा की।

विक्रम मान सिंह ने इस दौरान अपने पिता की एक दिलचस्प कहानी भी साझा की। उन्होंने कहा कि कैसे फिल्म में उनके पिता के किरदार को निभा रहे अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने खिलाड़ियों की खातिर बीसीसीआई के सख्त नियमों को तोड़ा था। मान सिंह ने टीम को सफलता दिलाने के लिए विश्व कप जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वह टीम के साथ इंग्लैंड जाने वाले सपोर्ट स्टाफ के एकमात्र सदस्य थे।

हैदराबाद में पूर्व क्रिकेट प्रशासक रहे विक्रम ने से बात करते हुए कहा, मैंने नम आंखों से फिल्म देखी। मेरे पास इस भावना को व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं बचे हैं। उन्होंने कहा कि फिल्म में पंकज त्रिपाठी ने उनके पिता के किरदार को बहुत अच्छे से निभाया है।

विक्रम ने फिल्म में प्रत्येक चरित्र को समान स्थान और महत्व देने के लिए निर्देशक कबीर खान की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा, मैं वास्तव में इस फिल्म को लोगों के सामने लाने के लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहता हूं।

विक्रम ने आगे कहा, मेरे पिता को भी बहुत गर्व महसूस हुआ, उन्होंने उस पल को फिर से याद करके जीया और पंकज त्रिपाठी ने जिस तरह से अपनी भूमिका निभाई, वह देखने लायक है। किसी भी टीम में प्रबंधक की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। वह खिलाड़ियों के लिए दिन-प्रतिदिन के मामलों की चिंता करने के बजाय केवल खेल पर ध्यान केंद्रित करता है।

अपने पिता के बारे में बात करते हुए, विक्रम ने से कहा, जब वह इंग्लैंड में भारतीय टीम के मैनेजर थे, तो मेरे पिता ने सुनिश्चित किया कि खिलाड़ी किसी भी मुद्दों से प्रभावित न हों और मान सिंह ने खिलाड़ियों को राहत देने के लिए उस समय बीसीसीआई द्वारा जारी किए गए कुछ नियमों को भी तोड़ा था।

विक्रम ने याद करते हुए कहा, उस समय किसी भी खिलाड़ी की पत्नी और गर्लफ्रेंड को टीम के साथ यात्रा करने की अनुमति नहीं थी और बीसीसीआई के नियम उस समय बहुत सख्त थे। खिलाड़ी इस बारे में चिंता में थे क्योंकि अन्य देश इसकी अनुमति दे रहे थे। 1983 विश्व कप से ठीक पहले, कृष्णमाचारी श्रीकांत की शादी हुई थी और उनकी पत्नी इंग्लैंड में थी, लेकिन वह अपने एक दोस्त के घर में रह रही थी।

तब श्रीकांत ने मेरे पिता को सूचित किया कि वह जाकर अपनी पत्नी से मिलेंगे और फिर खेल के लिए वापस आएंगे। बीसीसीआई इसके खिलाफ थी, लेकिन मेरे पिता ने श्रीकांत की पत्नी को होटल में बुलाकर उनके साथ रहने को कहा।

विक्रम ने आगे कहा इस तरह की कई अन्य चीजें, जैसे यह सुनिश्चित करना कि टीम का हर एक खिलाड़ी खुश है और सिर्फ अपने खेल पर ध्यान केंद्रित कराना मेरे पिता का कर्तव्य था। उन्होंने इस पल को अच्छे से निभाया। आज भी, कपिल देव मेरे पिता को फोन करते हैं और उनके स्वास्थ्य और हर चीज के बारे में बात करते हैं और वह सार्वजनिक रूप से मेरे पिता की प्रशंसा करते रहते हैं। मेरा मतलब है कि पूरी टीम वास्तव में मेरे पिता से प्यार करती है और उनके प्रबंधन और ईमानदारी के लिए उनका सम्मान करती है।

बातचीत के अंत में, विक्रम ने फिल्म के बारे में बारे में अपने समर्थन पर कहा मैं चाहता हूं कि हर कोई इस फिल्म को देखने जाए।

एचएमए/आरजेएस

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें निहारिका टाइम्स हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Niharika Times Android Hindi News APP