दिल्लीस्पोर्ट्स

सायना नेहवाल ने पीवी सिंधू की जीत पर नही दी बधाई, किया बड़ा खुलासा

सायना ने उनसे बात की, सिंधु ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘बेशक गोपी सर ने मुझे बधाई दी. मैंने अब तक सोशल मीडिया नहीं देखा है. मैं धीरे-धीरे सभी को जवाब दे रही हूं.’

सायना नेहवाल ने पीवी सिंधू की जीत पर नही दी बधाई, किया बड़ा खुलासा

टोक्यो: भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू ने सोमवार को कहा कि टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने उन्हें बधाई संदेश दिया जबकि सीनियर खिलाड़ी साइना नेहवाल से उन्हें बधाई नहीं मिली।

गत विश्व चैंपियन सिंधू रविवार को दो व्यक्तिगत ओलंपिक पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय और देश ही पहली महिला खिलाड़ी बनीं। सिंधू ने इससे पहले रियो खेलों में रजत पदक जीता था।

यह पूछने पर कि क्या पदक जीतने के बाद गोपीचंद और सायना ने उनसे बात की, सिंधु ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘बेशक गोपी सर ने मुझे बधाई दी. मैंने अब तक सोशल मीडिया नहीं देखा है. मैं धीरे-धीरे सभी को जवाब दे रही हूं.’ विस्तार से पूछे जाने पर सिंधू ने कहा, ‘गोपी सर ने मुझे संदेश भेजा. साइना ने नहीं. हम काफी बात नहीं करते.’
विस्तार से पूछे जाने पर सिंधू ने कहा, ‘‘गोपी सर ने मुझे संदेश भेजा। साइना ने नहीं। हम काफी बात नहीं करते।’’

यह भी पढ़े, पीवी सिंधु ने रचा इतिहास, भारत की झोली में डाला ब्रॉन्ज मेडल , देश को मिला तीसरा मैडल

पिछले साल कोविड-19 महामारी के बीच सिंधू तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए लंदन गई थी जिसके बाद उनके और गोपीचंद के बीच मतभेद की खबरें सामने आई थी। स्वदेश लौटने पर भी सिंधू ने गोपीचंद अकादमी की जगह पार्क तेइ-सांग के मार्गदर्शन में गचीबाउली इंडोर स्टेडियम में ट्रेनिंग का फैसला किया।

पिछले साल कोविड-19 महामारी के बीच सिंधु तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए लंदन गई थी जिसके बाद उनके और गोपीचंद के बीच मतभेद की खबरें सामने आई थी. सिंधु ने बाद में कहा था कि वह रिकवरी और न्यूट्रिशन प्रोग्राम के लिए ब्रिटेन गई थी. लेकिन वहां से आने के बाद भी सिंधु ने गोपीचंद अकादमी की जगह पार्क तेइ-सांग के मार्गदर्शन में गचीबाउली इंडोर स्टेडियम में ट्रेनिंग का फैसला किया था. इससे दोनों के बीच मतभेद की अफवाहों को बल मिला था. ओलिंपिक से पहले भी सिंधु ने कहा था कि उनकी तैयारी अच्छी चल रही है और उन्हें गोपीचंद की कमी नहीं खल रही है. बाद में गोपीचंद टोक्यो ओलिंपिक के लिए गए भी नहीं थे. उन्होंने अपनी जगह पुरुषों के एकल कोच अगस सेंटोसो के लिए छोड़ दी थी.

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer