स्पोर्ट्स

दक्षिण अफ्रिका के खिलाफ नंबर पांच पर बल्लेबाजी के लिए चुनाव करना बहुत मुश्किल : के एल राहुल

जोहान्सबर्ग, 24 दिसम्बर ()। भारत के उपकप्तान के एल राहुल ने स्वीकार किया कि पांचवें नंबर पर कौन बल्लेबाजी करेगा, यह फैसला करना बहुत मुश्किल होगा। उन्होंने कहा कि टीम आज या कल इस बारे में बात करना शुरू कर देगी।

पांचवें नंबर पर लंबे समय से अजिंक्य रहाणे बल्लेबाजी कर रहे हैं, लेकिन उनका बुरा फॉर्म जारी है। इसका मतलब हनुमा विहारी और श्रेयस अय्यर इस स्थान के लिए दावेदार हैं।

राहुल ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, यह एक बहुत ही कठिन निर्णय है। मुझे लगता है कि अजिंक्य हमारी टेस्ट टीम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं और उन्होंने अपने करियर में बहुत ही महत्वपूर्ण पारियां खेली हैं। उन्होंने जिस तरह की पारी मेलबर्न में खेली थी, उससे वास्तव में हमें टेस्ट मैच जीतने में मदद की।

उन्होंने आगे कहा, उन्होंने लॉर्डस में दूसरी पारी में पुजारा के साथ साझेदारी की, जहां उन्होंने एक अर्धशतक बनाया, जिसके बाद हमने वह टेस्ट मैच भी जीता था। इसलिए, वह मध्य क्रम में हमारे लिए एक प्रमुख और मजबूत खिलाड़ी रहे हैं।

राहुल ने कहा, श्रेयस ने कानपुर में शानदार पारी खेली और शतक बनाया, इसलिए वह भी इस नंबर के लिए दावेदार है। वहीं, हनुमा ने भी हमारे लिए अच्छा किया है। यह एक कठिन निर्णय है और आज या कल इस पर बातचीत की जाएगी।

राहुल ने कहा कि सेंचुरियन की पिच की प्रकृति धीमी और तेज है। यहां तक कि पिछली बार जब हम यहां खेले थे, तो पिच थोड़ी धीमी भी थी। मुझे लगता है कि हम इस सेंचुरियन पिच के लिए जो भी जानकारी इकट्ठा कर सकते हैं तो वह कर रहे हैं। यहां हम उसी के हिसाब से तैयारी कर रहे हैं।

राहुल ने पांच गेंदबाज के साथ मैदान पर उतरने को सही बताया है, जिसने हाल के विदेशी दौरों में भारत को सफलता दिलाई है। मुझे लगता है कि ज्यादातर टीमों ने चार गेंदबाजों को मौका देना शुरू कर दिया है और हर टीम 20 विकेट लेना चाहती है और यही एकमात्र तरीका है जिससे आप एक टेस्ट मैच जीत सकते हैं।

29 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि उपकप्तान के तौर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, लेकिन फिल्डिंग के दौरान उन्हें और थोड़ा ज्यादा काम करना होगा।

उन्होंने कहा, मेरे हिसाब से ऐसा कुछ नहीं हुआ है। जब आप सलामी बल्लेबाज होते हैं तो हमेशा आपकी जिम्मेदारी होती है क्योंकि आपको टीम को अच्छी शुरुआत देनी होती है। लेकिन मुझे लगता है कि मैदान में रणनीति बनाने और व्यावहारिक रूप से विराट को जानकारी देने के संबंध में अधिक भागीदारी होगी।

राहुल ने भारत के इंग्लैंड में 2-1 से आगे बढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने आठ पारियों में 39.37 की औसत से 315 रन बनाए थे। वह इंग्लैंड में अपने किए गए अच्छे प्रदर्शन को दक्षिण अफ्रीका में भी दोहराना चाहेंगे।

आरजे/आरजेएस