टेक्नोलॉजी

सरकार अश्वगंधा की प्रभावकारिता पर परामर्श की फिर से जांच कराएगी

नई दिल्ली, 25 नवंबर ()। आयुष मंत्रालय ने आयुर्वेद, सिद्ध और यूनानी (एएसयू) दवाओं में अश्वगंधा-विथानिया सोम्निफेरा-पत्तियों के उपयोग से संबंधित मामले की फिर से जांच कराने का फैसला किया है।

आयुष मंत्रालय ने पहले एएसयू दवा निमार्ताओं को अश्वगंधा (विथानिया सोम्निफेरा) के पत्तों के उपयोग से परहेज करने का निर्देश दिया था, यह कहते हुए कि कच्ची दवा या अश्वगंधा के अर्क की प्रभावकारिता का समर्थन करने के लिए कोई पर्याप्त सबूत और साहित्य उपलब्ध नहीं है।

मंत्रालय ने सभी एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशनों को एक एडवाइजरी भी जारी की, जिसमें क्रूड ड्रग/एक्सट्रैक्ट्स, सेलर्स, एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों, एएसयू ड्रग एक्सपोर्टर्स के निमार्ताओं से विथानिया सोम्निफेरा के पत्तों का इस्तेमाल क्रूड या एक्सट्रैक्ट या चिकित्सीय उद्देश्यों के लिए किसी अन्य रूप में नहीं करने की मांग की गई। एएसयू दवाओं के दायरे में

मंत्रालय ने अपने में कहा था, क्रूड ड्रग/विथानिया सोम्निफेरा पत्तियों के अर्क की प्रभावकारिता का समर्थन करने के लिए कोई पर्याप्त सबूत और साहित्य उपलब्ध नहीं है। इसे ध्यान में रखते हुए, इस स्तर पर विथानिया सोम्निफेरा के पत्तों को एएसयू दवा के रूप में मानना उचित परामर्श नहीं होगा।

हालांकि, उद्योग के हस्तक्षेप के बाद आयुष मंत्रालय ने हितधारकों को एएसयू उत्पादों में अश्वगंधा के पत्तों के उपयोग के बारे में अपनी चिंताओं पर चर्चा करने के लिए आमंत्रित किया।

एएसयू उद्योग भागीदारों के साथ चर्चा के बाद आयुष मंत्रालय ने अश्वगंधा के पत्तों के उपयोग से परहेज करने के लिए दवा निर्माताओं को जारी की गई सलाह की फिर से जांच करने के लिए एक विशेषज्ञ समूह का गठन करने का निर्णय लिया है।

समूह वैज्ञानिक साक्ष्य के आधार पर एएसयू उत्पादों में अश्वगंधा के पत्तों और अश्वगंधा के पंचांग के उपयोग पर केंद्र को उचित सिफारिशें करेगा।

एसजीके