टेक्नोलॉजी

भारत ने 100 करोड़ टीकाकरण का ऐतिहासिक लक्ष्य किया हासिल, पीएम मोदी बोले- भारतीय विज्ञान की जीत

नई दिल्ली, 21 अक्टूबर ()। कोविड के खिलाफ लोगों की रक्षा के लिए राष्ट्रव्यापी टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के नौ महीने बाद, भारत ने गुरुवार को 100 करोड़ टीकाकरण करने की एतिहासिक कामयाबी हासिल कर लिया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई देते हुए इसे भारतीय विज्ञान की जीत बताया।

कोविन पोर्टल ने उल्लेख किया कि भारत में टीकाकरण अभियान के तहत पात्र आबादी को अब तक कुल 100 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी हैं।

कोविड महामारी के खिलाफ भारत का टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 को शुरू किया गया था। सबसे पहले स्वास्थ्य कार्यकर्ता को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई थी। बाद में 2 फरवरी से फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को भी अभियान में शामिल किया गया। टीकाकरण अभियान में राज्य और केंद्रीय पुलिस कर्मियों, सशस्त्र बलों, होमगार्ड, नागरिक सुरक्षा और अन्य को शामिल किया गया।

टीकाकरण अभियान का विस्तार 1 मार्च से किया गया था, जिसमें 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को शामिल किया गया था, जो संबंधित निर्दिष्ट सहरुग्णता वाले थे। 1 मई से टीकाकरण अभियान 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को लगवाने की घोष्णा की गई थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक ट्वीट में कहा, भारत इतिहास लिखता है। हम 130 करोड़ भारतीयों की भारतीय विज्ञान, उद्यम और सामूहिक भावना की जीत देख रहे हैं। 100 करोड़ टीकाकरण को पार करने पर भारत को बधाई। इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए हमारे डॉक्टरों, नर्सों और काम करने वाले सभी लोगों का आभार।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इस ऐतिहासिक क्षण पर देश को बधाई देते हुए अपने ट्वीट में कहा, बधाई हो भारत! दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में यह हासिल हुआ है।

जैसा कि भारत ने इस ऐतिहासिक मील का पत्थर हासिल किया है, स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस अवसर को चिह्न्ति करने के लिए कई कार्यक्रमों की योजना बनाई है। स्वास्थ्य मंत्री 100 करोड़ कोविड-19 वैक्सीन खुराक देने के मील के पत्थर का जश्न मनाने के लिए एक गीत और एक ऑडियो विजुअल फिल्म जारी करेंगे। मंडाविया दिन में लाल किले पर फिल्म और गीत को रिलीज करेगी। एक अन्य कार्यक्रम में पीएम मोदी दिल्ली में केंद्र संचालित राम मनोहर लोहिया अस्पताल का दौरा करेंगे।

एसकेके/आरजेएस