टेक्नोलॉजी

भारत ने संशोधित यात्रा परामर्श जारी किया, नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट जरूरी

नई दिल्ली, 21 अक्टूबर ()। भारत ने बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय आगंतुकों के लिए एक संशोधित यात्रा परामर्श (एडवाइजरी) जारी किया, जिसमें सभी के लिए एक नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षण रिपोर्ट अनिवार्य कर दी गई है।

ताजा यात्रा परामर्श में कहा गया है कि जिस देश के साथ भारत के पास डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोविड-19 टीकों की पारस्परिक स्वीकृति की व्यवस्था है, वहां से आने वाले पूरी तरह से टीकाकरण वाले यात्रियों को एक नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षण रिपोर्ट तैयार करने के बाद हवाईअड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी और उनके पास नहीं होगा होम क्वारंटाइन और टेस्टिंग से गुजरना होगा।

संशोधित दिशानिर्देश 25 अक्टूबर से प्रभावी होंगे।

भारत के पास 11 देशों – यूके, फ्रांस, जर्मनी, नेपाल, बेलारूस, लेबनान, आर्मेनिया, यूक्रेन, बेल्जियम, हंगरी और सर्बिया के साथ राष्ट्रीय स्तर पर या डब्ल्यूएचओ द्वारा मान्यता प्राप्त कोविड-19 टीकों की पारस्परिक मान्यता के लिए समझौते हैं।

इन देशों के यात्री जो पूरी तरह से टीका लगाए गए हैं और टीकाकरण पूरा होने के बाद से 15 दिन बीत चुके हैं, उन्हें संशोधित दिशानिर्देशों के अनुसार हवाईअड्डे से बाहर निकलने की अनुमति दी जाएगी और आगमन के बाद 14 दिनों तक उनके स्वास्थ्य की निगरानी करनी होगी।

उन्हें अपनी निर्धारित यात्रा से पहले ऑनलाइन एयर सुविधा पोर्टल पर एक स्व-घोषणा फॉर्म जमा करना होगा और यात्रा से 72 घंटे के भीतर आयोजित एक नकारात्मक कोविड-19 आरटी-पीसीआर रिपोर्ट अपलोड करनी होगी। यात्रियों को रिपोर्ट की प्रामाणिकता के संबंध में एक घोषणा पत्र भी जमा करना होगा।

सरकार ने कहा, कोविट-19 महामारी के वैश्विक प्रक्षेपवक्र में कुछ क्षेत्रीय बदलावों के साथ गिरावट जारी है। दुनिया भर में बढ़ते टीकाकरण कवरेज और महामारी की बदलती प्रकृति को देखते हुए, भारत में अंतरराष्ट्रीय आगमन के मौजूदा दिशानिर्देशों की समीक्षा की गई है।

जिन देशों के साथ भारत का आपसी समझौता नहीं है, उनके यात्रियों को आगमन के स्थान पर आगमन के बाद के कोविड परीक्षण के लिए नमूना जमा करने, सात दिनों के लिए होम क्वारंटाइन, आगमन के आठवें दिन पुन: परीक्षण जैसे अतिरिक्त उपाय करने होंगे।

एसजीके