उत्तराखण्ड

Uttrakhand में भारी बारिश के कारण हुआ भूस्खलन, बद्रीनाथ हाइवे पर लगा जाम

Uttrakhand में भारी बारिश के चलते जन-जीवन प्रभावित हुआ है. लंबे अंतराल के बाद एक फिर बारिश के चलते पहाड़ों पर भूस्खलन शुरू हो गया है।

Uttrakhand में भारी बारिश के कारण हुआ भूस्खलन, बद्रीनाथ हाइवे पर लगा जाम

उत्तराखंड. Uttrakhand में भारी बारिश के चलते जन-जीवन प्रभावित हुआ है. लंबे अंतराल के बाद एक फिर बारिश के चलते पहाड़ों पर भूस्खलन शुरू हो गया है. भूस्खलन के चलते बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग-58 रविवार की सुबह तीन जगहों पर बंद हो गया.
इसके अलावा पागल नाले में भारी मलबा आने के चलते मार्ग बाधित हो गया है. यहां गाड़ियों की लंबी कतार लगी हुई है. बद्रीनाथ धाम में भी कल से लगातार बारिश हो रही है जिसके चलते बद्रीनाथ धाम में एक बार फिर अलकनंदा का जलस्तर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है. बारिश के चलते चमोली में पागलनाला, गुलाबकोटी एवं हनुमानचट्टी के पास मलबा आने के बाद हाइवे कई जगहों पर बंद हो गए हैं जिसके चलते लंबा जाम लग गया है.जाम लगने से लोगों को आने जाने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

यह भी पढ़े, Monsoon का इंतज़ार अब होगा खत्म, उत्तर भारत को जल्द मिल सकती है गर्मी से राहत

बता दें कि बंगाल की खाड़ी में बनने वाले दबाव क्षेत्र और मॉनसून के आगे बढ़ने की वजह से 10 जुलाई के बाद उत्तर पश्चिम भारत में व्यापक वर्षा होने की संभावना व्यक्त की गई थी. वहीं, 11 और 12 जुलाई को जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और पंजाब में भी भारी बारिश की संभावना जताई गई है. Uttrakhand और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 09 जुलाई से 14 जुलाई के बीच भारी बारिश का अनुमान व्यक्त किया गया है. उत्तराखंड में 11 और 12 जुलाई को भारी से बहुत भारी वर्षा होने के आसार बताए गए हैं. इसके लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है

पर्यटकों से गुलजार हुआ नैनीताल-मसूरी:

कोरोना का संक्रमण कम होते ही नैनीताल और मसूरी गुलजार हो गई है. यहां बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं. जानकारी के मुताबिक, बीते एक सप्ताह के भीतर नैनीताल समेत आसपास के पर्यटन स्थलों में करीब 50,000 से अधिक पर्यटक पहुंचे हैं. यही हाल मसूरी का है. यहां देश के कोने-कोने से सैलानी पहुंच रहे है. पर्यटकों की अधिक संख्या के चलते नैनीताल में जाम की स्थिति भी बन रही है, जिससे पर्यटकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कोरोना के चलते बीते डेढ़ साल से नैनीताल समेत उत्तराखंड का पर्यटन पूरी तरह से चौपट था लेकिन संक्रमण कम होने के चलते सैलानी उत्तराखंड का रुख कर रहे है, ऐसे में पर्यटन कारोबारियों के चेहरे पर खुशी है।

तीसरी लहर से बेफिक्र सैलानी:

भारत में भले ही कोरोना की दूसरी लहर अपना प्रचंड रूप दिखाकर खत्म हो चुकी है. लेकिन अभी भी तीसरी लहर की संभावना को लेकर
चर्चा जारी है इसके बावजूद सैलानी बड़ी मात्रा में Uttrakhand और हिमाचल पहुँच रहे है साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने को लेकर भी लोग लापरवाही बरत रहे है ऐसे में सवाल यह भी है कि क्या ये कोरोना की तीसरी लहर को दावत देना नही है?

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker