देश विदेश

आईएईए कैमरे के जरिए परमाणु संयंत्र पर रख रहा नजर : ईरान

तेहरान, 17 अप्रैल ()। ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन (एईओआई) ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा संगठन (आईएईए) कैमरे के जरिए परमाणु संयंत्र की गतिविधियों की निगरानी कर रहा है, लेकिन वह संयंत्र की रिकॉर्डिंग नहीं देख सकता है।

एईओआई के प्रवक्ता बेहरोज कमलवंडी ने शनिवार को ईरान के अरबी भाषा के समाचार नेटवर्क अल-आलम के हवाले से कहा, निगरानी जारी है, लेकिन जब तक परमाणु समझौता नहीं हो जाता, तब तक सूचना हमारे पास रहेगी और संभवत: डिलीट कर दी जाएगी।

राजधानी तेहरान के पास कारज में कुछ परमाणु सुविधाओं को ईरान के नटांज परिसर में ट्रांसफर करने के बारे में, उन्होंने कहा, दुर्भाग्य से कारज सुविधाओं के खिलाफ आतंकवादी ऑपरेशन के कारण, हमें सुरक्षा उपायों को तेज करना पड़ा और इन मशीनों के एक महत्वपूर्ण हिस्से में ट्रांसफर करना पड़ा।

उन्होंने कहा, सेंट्रीफ्यूज मशीनों को उनके महत्व के कारण सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है, और वे अब काम कर रहे हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, 4 अप्रैल को ईरान ने यूएन के न्यूक्लियर वॉचडॉग को कारज से नटंज में मशीनों को ट्रांसफर करने की अपनी योजना के बारे में सूचित किया था।

एईओआई के प्रवक्ता ने कहा कि आईएईए के साथ हुए समझौत के तहत ईरान की पिछली गतिविधियों से संबंधित मुद्दों को जून तक हल कर लिया जाएगा।

उन्होंने आगे कहा, हमारे पास इस समय कोई तकनीकी समस्या नहीं है, हालांकि कुछ छोटे मुद्दे हो सकते हैं जिन्हें हल किया जा रहा है।

2015 में, ईरान ने संयुक्त राज्य अमेरिका समेत विश्व शक्तियों के साथ एक परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते को औपचारिक रूप से संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के रूप में जाना जाता है। हालांकि, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मई 2018 में वाशिंगटन को समझौते से बाहर कर दिया और ईरान पर प्रतिबंधों को फिर से लागू कर दिया, जिसके बाद ईरान ने अपनी कुछ परमाणु प्रतिबद्धताओं को छोड़ दिया।

अप्रैल 2021 से, ऑस्ट्रिया की राजधानी वियेना में ईरान और शेष जेसीपीओए पार्टियों के बीच सौदे को लेकर आठ दौर की बातचीत हो चुकी है।

पीके/एसकेपी