देश विदेश

अफगान हवाई अड्डों के प्रबंधन पर तुर्की, कतर के साथ अभी बाकी है समझौता

काबुल, 26 दिसम्बर ()। अफगानिस्तान में तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार ने कहा है कि युद्धग्रस्त देश में पांच हवाई अड्डों के प्रबंधन को लेकर उनका तुर्की और कतर के साथ समझौता होना बाकी है।

खामा प्रेस ने बताया कि परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पुष्टि की कि तुर्की-कतर के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल के साथ चर्चा चल रही है।

मंत्रालय के प्रवक्ता इमामुद्दीन अहमदी ने कहा, संयुक्त तुर्की-कतर की तकनीकी टीम गुरुवार को काबुल आई और इस्लामिक अमीरात की तकनीकी टीमों के साथ बैठक की। ये बैठकें जारी रहेंगी और निकट भविष्य में वे देश के राष्ट्रीय हितों के आलोक में एक समझौते पर पहुंचेंगे।

यह बयान तब आया जब तुर्की की सरकारी अनादोलु न्यूज एजेंसी ने खबर दी थी कि दोनों प्रतिनिधिमंडल तालिबान के साथ इस मुद्दे पर एक समझौते पर पहुंच गए हैं।

तुर्की और कतर काबुल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, कंधार अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, मजार-ए-शरीफ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, खोस्त हवाई अड्डे और हेरात हवाई अड्डे के प्रबंधन के लिए सहमत हुए हैं।

अफगानिस्तान में 24 हवाई अड्डे हैं और कथित तौर पर काबुल, बल्ख, हेरात, कंधार और खोस्त हवाई अड्डे अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए डिजाइन किए गए हैं और बाकी घरेलू उड़ानों के लिए हैं।

अगस्त में तालिबान के सत्ता में आने के बाद काबुल हवाई अड्डे और पूरे अफगानिस्तान में अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय उड़ानें निलंबित कर दी गईं थी।