देश विदेश

क्या तथाकथित दुश्मनों की सूचना गढ़ने से अमेरिकी समाज बच पाएगा?

बीजिंग, 24 दिसम्बर ()। इधर के कुछ सालों में अमेरिकी सरकार ने बार-बार चीन को चुनौती दी और चीन के साथ व्यापार, विज्ञान व तकनीक, वित्त, सूचना और मानवाधिकार क्षेत्रों में संघर्ष किया। तो चीन क्यों अमेरिका की आंखों में कांटा बन गया है। इसका जवाब चीन के बजाये अमेरिकी समाज में है।

इधर के कुछ सालों में अमेरिका में सामाजिक विभाजन, राजनीतिक ध्रुवीकरण, जातीय मुठभेड़, बेरोजगार जैसे सामाजिक सवाल दिन ब दिन गंभीर हो रहे हैं। जीवन के प्रति अमेरिकियों की आशा खो रही है।

घरेलू संकट पर लोगों का ध्यान हटाने के लिए अमेरिका चीन और रूस जैसे देशों पर आरोप लगाते हैं और उन देशों को अमेरिका के दुश्मन के रूप में बनाते हैं, ताकि अमेरिकी जनता को लगता है कि बाहरी संकट नाजुक है। लेकिन बड़े देशों के मुकाबले को उकसावा देने से अमेरिकी जनता को कोई लाभ नहीं है।

चीन के पास अमेरिका पर सैन्य हमला करने की क्षमता नहीं है और अमेरिका की जगह लेने का रणनीतिक इरादा भी नहीं है। चीन को बदनाम करने वाले अमेरिकी सरकार का कथन सिर्फ झूठा साबित होता है। दूसरी ओर, मुकाबला उकसाने से अमेरिका अपने सवाल को सुलझाने का समय गंवा रहा है। अमेरिकी जनता को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

एएनएम