मार्च में लोक शिकायत लंबित मामलों की संख्या बढ़कर 71,743 हुई

Sabal SIngh Bhati
2 Min Read

नई दिल्ली, 6 अप्रैल ()। केंद्रीय सचिवालय में लंबित लोक शिकायत मामलों की संख्या फरवरी के अंत में 66,622 से बढ़कर मार्च के अंत में 71,743 हो गई है।

मार्च में, केंद्रीकृत लोक शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली (सीपीजीआरएएमएस) पोर्टल पर 1,24,823 लोक शिकायत मामले प्राप्त हुए थे, जबकि कुल 1,19,706 मामलों का निवारण किया गया और 25 मार्च तक 71,743 मामले लंबित थे।

मार्च में जिन विभागों को सबसे ज्यादा शिकायतें मिली हैं, उनमें कृषि और किसान कल्याण (19,826 शिकायतें), वित्तीय सेवाएं (बैंकिंग विभाग) (18,904 शिकायतें), श्रम और रोजगार (14,348 शिकायतें), वित्तीय सेवाएं (बीमा विभाग) (6,116 शिकायतें) और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (आयकर) (5,360 शिकायतें) शामिल हैं।

प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग (डीएआरपीजी) द्वारा जारी मार्च की सीपीजीआरएएमएस मासिक रिपोर्ट के अनुसार, मासिक निपटान लगातार आठवें महीने एक लाख मामलों को पार कर गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि 25 मार्च तक 17 मंत्रालयों या विभागों में 1,000 से अधिक लंबित शिकायतें हैं। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (आयकर) और कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग के पास क्रमश: 8,132 और 2,001 मामले हैं, जिनमें सबसे अधिक शिकायतें 30 दिनों से अधिक समय से लंबित हैं।

मार्च में 15,691 लोक शिकायत अपीलें प्राप्त हुईं और 14,395 अपीलों का निस्तारण किया गया। मार्च के अंत तक केंद्रीय सचिवालय में 28,042 अपीलें लंबित थीं। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण और श्रम और रोजगार मंत्रालय मार्च के लिए ग्रुप ए के भीतर शिकायत निवारण सूचकांक में शीर्ष प्रदर्शनकर्ता हैं। वित्तीय सेवा विभाग (पेंशन सुधार) और नीति आयोग मार्च के लिए ग्रुप बी में शिकायत निवारण सूचकांक में शीर्ष प्रदर्शनकर्ता हैं।

केसी/

देश विदेश की तमाम बड़ी खबरों के लिए निहारिका टाइम्स को फॉलो करें। हमें फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। ताजा खबरों के लिए हमेशा निहारिका टाइम्स पर जाएं।

Share This Article