जोधपुरराजस्थान

आसाराम के समर्थकों की सेंट्रल जेल के बाहर लगी भीड़, पुलिस ने डंडों से फटकारा

आसाराम को तबीयत ठीक न होने पर इलाज के लिए गुरु पूर्णिमा पर शनिवार को एम्स में जांच कराई गई। संभवत: पहले से पता होने से आसाराम के सैंकड़ों समर्थक दर्शन के लिए जेल के बाहर व रास्ते में जमा हो गए।

आसाराम के समर्थकों की सेंट्रल जेल के बाहर लगी भीड़, पुलिस ने डंडों से फटकार

जोधपुर. नाबालिग से बलात्कार करने पर ताउम्र सजा काट रहे आसाराम को तबीयत ठीक न होने पर इलाज के लिए गुरु पूर्णिमा पर शनिवार को एम्स में जांच कराई गई। संभवत: पहले से पता होने से आसाराम के सैंकड़ों समर्थक दर्शन के लिए जेल के बाहर व रास्ते में जमा हो गए। पुलिस ने डण्डे फटकारकर उन्हें नियंत्रित किया।
इस बीच, गुरु पूर्णिमा पर आसा राम को देखने के लिए बड़ी तादाद में समर्थक सुबह से ही जेल के बाहर जमा होने लग गए। इनमें न सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाएं, युवतियां व बच्चे भी शामिल थे। कई समर्थक जेल के मुख्य द्वार के बाहर हाथ जोडक़र व जमीन छूते नजर आए।

यह भी पढ़े, Rajasthan Vaccination: राजस्थान में वैक्सीनेशन अभियान ठप्प: जोधपुर समेत इन शहरों में खत्म हुई वैक्सीन, जाने कब होगा दोबारा वैक्सीनेशन शुरू

आसाराम को जोधपुर जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच एम्स लाया गया। यहां उसकी MRI की गई। इसके अलावा कुछ और जांच होनी हैं। आसाराम ने इलाज के लिए गुरु पूर्णिमा का दिन चुना। उसे दो दिन पहले एम्स लाया जाना था, लेकिन बहाने बनाकर वह नहीं आया। शनिवार को वह खुद आने को तैयार हो गया।

इसकी खबर उसके समर्थकों को मिल चुकी थी। गुरु पूर्णिमा पर उसके दर्शन के लिए वे सुबह से ही एम्स के बाहर जुट गए। हर गुरु पूर्णिमा को आसाराम समर्थक जेल के बाहर इकट्‌ठा होकर पूजा करते रहे हैं।

माहौल न बिगड़े इसलिए एम्स के बाहर पुलिस बल तैनात है। पुलिस आसाराम समर्थकों को खदेड़ रही है, लेकिन वे कुछ देर में वापस आकर खड़े हो जाते हैं। बताया जाता है कि इनमें से कुछ तो चुपके से अंदर जाने में भी कामयाब रहे। वे आसाराम के पास जाकर उससे मिल आए।

2013 से जोधपुर जेल में बंद:

अपने गुरुकुल में पढ़ने वाली एक नाबालिग छात्रा का यौन उत्पीड़न करने के मामले में आसाराम को 2013 में जोधपुर पुलिस इंदौर से गिरफ्तार कर लाई थी। तब से वह यहां की जेल में बंद है। 2018 में उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। आसाराम अब तक 15 बार जमानत हासिल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक याचिका दायर कर चुका है, लेकिन किसी कोर्ट से उसे जमानत नहीं मिली।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer